पुणे हिंसाः प्रकाश अंबेडकर ने वापस लिया महाराष्ट्र बंद, कई जगह हुए विरोध-प्रदर्शन

मुंबई। पुणे जिले के भीमा-कोरेगांव की दो सौ साल पुरानी जंग की बरसी से उपजे तनाव ने मुंबई समेत महाराष्ट्र के कई शहरों को जातीय हिसा में झुलसा दिया। जगह-जगह दलित और मराठा समुदाय के बीच झड़प हुई।

पुणे में जातीय हिंसा के बाद डॉ. भीमराव अंबेडकर के पोते प्रकाश अंबेडकर ने महाराष्ट्र बंद वापस ले लिया है। प्रकाश ने महाराष्ट्र बंद को शांतिपूर्ण बताया है। हालांकि बुधवार को राज्य में बंद के दौरान कई जगहों पर हिंसक झड़पें हुई। हिंसा को लेकर महाराष्ट्र में स्थिति तनावपूर्ण बनी रही। इस बीच मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

बता दें कि एक जनवरी को भीमा कोरेगांव में दलित समाज के शौर्य दिवस पर भड़की हिंसा के विरोध में प्रकाश अंबेडकर और कुछ दलित संगठनों ने बुधवार को महाराष्ट्र बंद का ऐलान किया था।

चंद्रपुर में भाजपा विधायक के घर में तोड़फोड़ –

महाराष्ट्र बंद के दौरान कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन भी हुए। चंद्रपुर में कुछ प्रदर्शनकारियों ने भाजपा विधायक के घर तोड़फोड़ भी की। वहीं कोल्हापुर में विरोध-प्रदर्शन के खिलाफ शिवसैनिक सड़क पर उतरे।

औरंगाबाद में इटरनेट सेवाएं रहीं बंद –

लगातार विरोध प्रदर्शन की वजह से औरंगाबाद में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं जबकि कई इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है। स्थिति को देखते हुए महाराष्ट्र के लिए जाने वाली कई राज्यों की बसें रोक दी गईं हैं। प्रदर्शनकारियों ने नालासोपारा में रेलवे ट्रैक पर कब्जा कर लिया है। राज्य में प्रदर्शन के कारण रिक्शा चालकों ने भी सेवाएं कम कर दी है।

बवाल बढ़ा, कोल्हापुर में सड़क पर उतरे शिवसैनिक –

भीमा कोरेगांव की हिंसा की घटना को लेकर पूरे महाराष्ट्र में जहां जगह-जगह प्रदर्शन हो रहा है। वहीं कोल्हापुर में विरोध-प्रदर्शन के खिलाफ शिवसैनिक सड़क पर उतर गए हैं। यहां फिलहाल पुलिस सतर्कता बरत रही है।

संसद तक असर –

पुणे में जारी भीमा कोरेगांव की हिंसा का असर अब संसद तक भी पहुंच गया है। समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल और कांग्रेस सांसद रजनी पाटिल ने राज्यसभा में नियम 267 के तहत स्थगन प्रस्ताव नोटिस प्रस्तुत किया है मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी राज्यसभा में नियम 56 के तहत स्थन प्रस्ताव का नोटिस दिया। सीपीआई नेता डी राजा ने पुणे हिंसा मुद्दे को लेकर राज्यसभा में शून्य काल का नोटिस जारी किया है। जन अधिकार पार्टी नेता और मधेपुरा सांसद पप्पू यादव ने भी राज्यसभा में स्थगन नोटिस दिया। हिंसा के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए महाराष्ट्र विधानसभा के बाहर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

स्कूल कॉलेज बंद –

मुंबई में आज स्कूल बसों की सेवा बंद कर दी गई है। एक स्कूल बस मालिक ने कहा, बच्चों की सुरक्षा को लेकर रिस्क नहीं लिया जा सकता है। हम 11 बजे तक हालात को देखते हुए दूसरा फैसला करेंगे कि दूसरी पीरियड में बस चलाया जा सकता है या नहीं। मुंबई यंग लेडीज स्कूल के शिक्षक ने बताया, यह बच्चों के अभिभावकों पर छोड़ दिया गया है कि वे अपने बच्चों को स्कूल भेजना चाहतें हैं या नहीं। मुश्किल से 50 बच्चे आज स्कूल आए हैं। इसलिए हम उन्हें भी वापस घर भेज दे रहे हैं। मुंबई स्थित अबासाहेब कॉलेज आज के लिए बंद कर दिया गया है।

वायु सेवाओं में कैंसिलेशन शुल्क पर छूट –

सरकारी एयर इंडिया सहित घरेलु विमान ने महाराष्ट्र में फैली हिंसा को लेकर रद किये गए टिकट पर कैंसिलेशन शुल्क माफ कर दिए हैं। एयर इंडिया ने कहा है कि 2-3 जनवरी को मुंबई से आने वाली और मुंबई को जाने वाली एयर टिकट की कैंसेलेशन शुल्क माफ कर दिया गया है। जेट एयरवेज ने भी कहा, “मुम्बई, पुणे और औरंगाबाद की 3 जनवरी की टिकट रद करने पर छूट है।” इंडिगो ने कहा है कि वह आज और कल के लिए मुंबई और पुणे से उड़ानों के लिए और रद्द करने की शुल्क माफी प्रदान करेगा। इंडिगो ने अपने यात्रियों को एक ट्वीट में बताया, “हम आज के लिए और मुंबई से उड़ानों के लिए रीशिड्यूल और रद्द शुल्क माफ करते हैं।”

यात्री बस सेवा निलंबित –

पुणे और सतारा जाने वाली बसों को भी हिंसा को देखते हुए अगले आदेश तक निलंबित कर दिया गया है। ठाणे में ऑटो-रिक्शा की कमी के कारण ऑफिस जाने वाले लोगों को काफी परेशानियां का सामना करना पड़ रहा है। कर्नाटक से महाराष्ट्र को जाने वाली अंतरराज्यीय बस सेवा भी कुछ समय के लिए निलंबित कर दी गई है। बंद के कारण ऑटोरिक्शा चालक भी परेशान हैं। एक ऑटोरिक्शा चालक ने कहा, हम सिर्फ इसलिए समर्थन कर रहे हैं क्योंकि हम किसी तरह का नुकसान नहीं चाहते हैं। प्रदर्शनकारी कुछ भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। पोवई में बीएमसी की बिजली सेवा आपूर्ति, बस और कारों में तोड़-फोड़ मचाई गई। अंधेरी में पश्चिमी एक्सप्रेस हाइवे पर ‘रास्ता रोको’ विरोध प्रदर्शन शुरु कर दिया गया है। औरंगाबाद में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए हैं। यहां प्रदर्शनकारियों ने पत्थर फेकना शुरु कर दिया है साथ ही कई वाहनों में तोड़-फोड़ मचाई है।

ठाणे में धारा 144 लागू –

घाटकोपर के रमाबाई कॉलोनी और पूर्वी एक्सप्रेस हाइवे पर भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है।प्रदर्शनकारियों ने ठाणे स्टेशन पर ट्रेन को रुकवाकर विरोध प्रदर्शन करने की कोशिश की थी। बढ़ती हिंसा को देखते हुए ठाणे में 4 जनवरी की रात्रि तक धारा 144 लागू कर दी गई है। औरंगाबाद में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। डीसीपी प्रवीण मुंधे ने कहा, “मैं सभी नागरिकों से अपने डेली रुटीन को जारी रखने का आह्वान करता हूं। उन्होंने आश्वासन दिया कि शहर में शांति व्यवस्था जल्द ही हो जाएगी। सेशल माडिया पर फैलाए जा रहे अफवाहों पर ध्यान ना दें।”

रेल सेवाएं प्रभावित –

कुछ प्रदर्शनकारियों ने ठाणे में रेल सेवा को भी प्रभावित करने की कोशिश की लेकिन वहां मौजूद आरपीएफ और जीआरपी बलों ने तत्काल इस पर काबू पा लिया। केंद्रीय रेलवे के अधिकारी के कहना है कि सेंट्रल रेलवे पर रेल सेवा निर्बाधित रूप से चालू है। नालासोपारा रेलवे स्टेशन के रेलवे ट्रैक पर बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों ने रेलवे जाम कर रखा है।

प्रबंधन और सुरक्षा बल यातायात व्यवस्था सामान्य करने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। नागपुर के शताब्दी स्क्वायर पर प्रदर्शनकारियों की भीड़ ने हाइवे जाम कर दिया है। वहीं दूसरी तरफ मुंबई के एनएम जोशी मार्ग पर जबरदस्ती दुकानें बंद करवाई जा रही हैं। असाल्फा और घाटकोपर के बीच की मेट्रो सेवाएं प्रदर्शनकारियों के द्वारा बंद कर दी गई है। गोरेगांव में ठप्प पड़ी ट्रेन सोवा चालू कर दी गई है हालांकि विरेध प्रदर्शन के कारण ये देरी से चल रही हैं। विरोध प्रदर्शन को देखते हुए एसी लोकल ट्रेन एक दिन के लिए बंद कर दिया गया है। जबकि अन्य उपनगरीय इलाकों, दादर, मलाड, गोरेगांव आदि में प्रदर्शन के बावजूद रेल सेवा चालू कर दी गई है।

डिब्बावाला सेवाएं बंद –

मुंबई तक पहुंचे हिंसा के असर ने कई लोकल ट्रेंनों और बसों को भी इसका शिकार बनाया गया। मुंबई प्रसिद्ध डब्बावाला संगठन ने भी हिंसा को देखते हुए एक दिन के लिए अपनी सेवा बंद करने का फैसला किया है। इस संगठन के प्रमुख सुभाष तालेकर ने कहा, यातायात के साधनों में आ रही समस्या से टिफिन डेलीवरी समय पर नहीं हो पा रही है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *